baba kamalnath ashram Alwar free cancer treatment

baba kamalnath ashram Alwar में कैंसर का इलाज़

baba kamalnath ashram alwar

कैंसर का इलाज़ आयुर्वेदिक दवाओं से संभव है ….जी हाँ जब किसी ने सबसे पहले मुझे ये बताया तो लगा कि देखो किसी की मजबूरी में भी लोग कैसे फायदा उठाने की सोचने लगते हैं .लेकिन आज मैं आपसे एक ऐसी जगह के बारे में बता रहा हूँ जहाँ बिलकुल निशुल्क (फ्री) में कैंसर जैसी बीमारी की दवा मुफ्तसेवा भाव से दी जाती है .ये जगह है बाबा कमलनाथ( baba kamalnath ashram Alwar)का आश्रम अलवर जिला राजस्थान में है .

baba kamalnath ashram alwar

आज से १ महीने पहले मेरे ख़ास मित्र का मथुरा जिले से फोन आया की उनकी माताजी को सर्वाइकल कैंसर हो गया है और वो मुझसे इलाज़ के बारे में पूछने लगे .मुझे जो जानकारी थी मैंने उन्हें बता दी कि कीमो एवं रेडियो थेरेपी के द्वारा इसको फैलने से रोका जा सकता है और माता जी की उम्र बढ़ायी जा सकती है .तीन दिन बाद उनका पुनः फ़ोन आया कि मुझे (baba kamalnath ashram)अलवर के आश्रम के बारे में पता चला है जहाँ बहुत से लोगों को आश्चर्यजनक रूप से कैंसर में फायदा मिला है उन्होंने कुछ ऐसे लोगों से फ़ोन पर खुद बात कि जिनके परिवार के सदस्य पूर्ण रूप से स्वस्थ्य होकर आज भी जीवन जी रहे हैं .मुझे विश्वाश नहीं हो रहा था उन्होंने बताया कि इलाज़ पूर्ण रूप से निशुल्क है एवं किसी भी रूप से दान एवं उपहार भी नहीं लिया जाता .

baba kamalnath ashram alwar

मैंने उनसे बोला की ठीक है वहां जाकर देखते हैं पहली बार १५ दिन की दवा देते हैं उसके बाद निर्णय ले लेंगे की क्या इलाज़ करवाया जाये .दुसरे दिन वहां पहुँच गए वहां का माहौल देखकर लगा की शायद हम ठीक जगह पर आए हैं .बहुत से लोगों से बात हुई जो इलाज़ करवा रहे थे एवं सब लोग यही कह रहे थे फायदा है .हिन्दुस्तान के कोने कोने से लोग आए थे .सबसे सकारात्मक बात जो मेरे दिल को छू गयी वो थी वहां का सेवाभाव.हम भी दवा लेकर आ गए एवं मित्र ने माताजी का इलाज दुसरे दिन शुरू कर दिया .

ठीक १२ दिन बाद मित्र का फ़ोन आया जिसका मुझे भी बेसब्री से इंतज़ार था भावुक होकर बोलने लगा कि माताजी के पेट में चार गांठे थीं altrasaund में अब दो गांठे गायब हो चुकी हैं मुझे अत्यंत खुशी का अनुभव हुआ और मैंने मन ही मन सोचा इस बारे में मैं ज्यादा से ज्यादा लोगों को बताऊँगा .मित्र की माताजी आज ऐसा महसूस करती हैं की उनको जैसे कोई बीमारी थी ही नहीं ,नियमित रूप से जैसे बीमारी से पहले थीं वैसे ही अब महसूस करने लगी हैं .

जब मेरे मित्र की माताजी का इलाज़ आरंभ हुआ तभी किसी अन्य मिलने वाले को इस बारे में पता चला जिसकी माताजी को कैंसर फैलकर रीढ़ की हड्डी तक पहुँच गया वह पहले से कई इलाज़ करवा रहे थे लेकिन फायदा नहीं मिल रहा था .वह भी  तुरंत आश्रम से दवा लेकर आए और उनकी माताजी का रीढ़ की हड्डी वाला कैंसर गायब हो गया एवं वह भी पहली से बहुत ज्यादा अच्छा महसूस करने लगी हैं .

मैं भी आश्रम कई बार हो आया हूँ वहां आपको ऐसे बहुत से उदाहरण मिल जायेंगे जो पूर्ण रूप से स्वस्थ्य होकर नार्मल जिन्दगी जी रहे हैं .वहां आपको बहुत से लोग मिलेंगे जो कई सालों से दवा दे रहे हैं मैंने पूछा जब ठीक हो गए तब दवा क्यूँ दे रहे हैं कहते हैं अपनी संतुष्टी के लिए दे रहे हैं .

कुछ ऐसे लोग भी मिले जिन्हें बड़े बड़े कैंसर हॉस्पिटल ने मना कर दिया था की कुछ नहीं हो सकता इनकी सेवा करो और इस दवा से आज भी स्वस्थ्य हैं .baba kamalnath ashram alwar

यहाँ आपके यह भी बता दूं की किस किस कैंसर में  फायदा हुआ है बाबा कमलनाथ आश्रम अलवर की दवा से :

किसी भी तरह का मुंह का कैंसर .

स्तन कैंसर breast cancer

सर्वाइकल कैन्सर cervical cancer

प्रोस्टेट  कैन्सर prostate cancer

शरीर के अंदरूनी कैन्सर

ब्लड कैंसर blood cancer

ज्यादातर सभी तरह के कैंसर ठीक होते देखे गए हैं .

 

दवा लेने की विधि :

दवा देने के कुछ आसान नियम एवं परहेज हैं . गाय का दूध (देसी ),तुलसी की पत्ती ,एवं शहद .इसमें से तुलसी का पाउडर भी आश्रम से मिल सकता है एवं शहद भी मिल जायेगा .

baba kamalnath ashram

पहली बार १५ दिन की दवा ही मिलेगी एवं मरीज़ का कार्ड बन जायेगा .

मरीज को ले जाना आवश्यक नहीं है ,उसकी रिपोर्ट देखकर दवा मिल जायेगी .

किसी भी प्रकार का दान एवं उपहार स्वीकार्य नहीं है .

दूसरी बार से कार्ड देखकर दवा मिल जायेगी.हर बार कार्ड लेकर जाना अनिवार्य है बिना कार्ड के दवा नहीं मिलेगी .

अगर आप एलोपथी दवा दे रहे हैं तो साथ में दे सकते हैं .

baba kamalnath ashram alwar

 

आश्रम के बारे में मेरा लिखने का मकसद सिर्फ इतना है कि अगर मेरे इस लेख को पढकर किसी एक भी कैंसर के मरीज़ को फायदा हो जाये तो मेरे लिखने का मकसद पूर्ण हो जायेगा .जितनी बार भी मैं उस पवित्र आश्रम गया एक नयी ऊर्जा एवं सकारात्मक सोच लेकर आया ,वहां का सेवाभाव देखकर दिल गदगद हो जाता है .

आपको बाबा कमलनाथ आश्रम अलवर में बहुत से ऐसे लोग मिलेंगे जो खुद या उनके रिश्तेदार इस लाइलाज बीमारी से बिलकुल ठीक हो गए .पिछली बार गया तो आगरा के ही एक सज्जन मिल गए क्यूँकी मैं भी आगरा से ही हूँ इस लिए बातचीत प्रारंभ हो गयी और 6 घंटे साथ रहे तो उनका अनुभव सुनकर बहुत अच्छा लगा वो मैं आपसे साझा कर रहा हूँ  उनकी पत्नी को 7 साल पहले स्तन कैंसर हुआ ,दिल्ली में ऑपरेशन हुआ कुछ दिन बाद की डेट कीमो की दे दी गयी .इस बीच किसी निकट संबंधी ने बाबा कमलनाथ आश्रम के बारे में बताया परन्तु जैसा सभी के साथ होता है उन्हें भी भरोसा नहीं हुआ .बात आयी गयी हो गयी .कीमो से एक दिन पहले पत्नी की बहन ने जिद पकड़ ली की दिल्ली जाना है तो एक बार बाबा कमलनाथ आश्रम अलवर होते हुए चले जाइये उनकी भावनात्मक जिद के आगे उन्हें बात माननी पडी और दुसरे दिन वो दिल्ली के लिए निकले अलवर होते हुए .बाबा के आश्रम पहुंचे तो पूरा केस बताया लोगों के अनुभव से लगा सभी को दवा से लाभ मिला . दवा लेकर दिल्ली नहीं गए और आगरा घर लौट आए .उन्होंने बताया की उस दिन के बाद से पत्नी बिलकुल स्वस्थ हैं कैंसर संबंधी कोई गाँठ या समस्या नहीं हुई .जो स्त्री कमजोरी की वजह से उठ बैठ नहीं पाती थी आज भी 4 से 5 किमी मंदिर पैदल जाती है .मैंने उनसे वही सवाल किया जब पूर्णतः स्वस्थ्य हैं तो दवा क्यूँ खिला रहे हैं कहने लगे की मुझे लगता है की इस दवा से ही स्वस्थ्य हुई हैं मैं क्यूँ रिस्क लूं .

उन्होंने बताया की किसी से पता चला की १० साल का एक बच्चा है आगरा में उसे ब्लड कैंसर है उन्होंने तुरंत उसके पिताजी को आश्रम जाने को कहा बच्चे के पिताजी उनके साथ आश्रम आए तुरंत बाबा कमलनाथ आश्रम की दवा चालू कर दी .वह बच्चा बहुत ही कमजोर था .दुसरे बच्चों की तरह खेल नहीं सकता था बहुत जल्दी साँस फूलने लगती थी आज वह बच्चा 14 साल का हो चुका है एवं हर तरह के खेल खेलता है .किसी भी तरह से दुसरे नार्मल बच्चों से ज्यादा स्वस्थ्य है .

मुझे लगता है की जब कुछ लोग इतना अच्छा काम निःस्वार्थ भावना के साथ कर रहे हैं तो मैं अपने लेख से उनके बारे मैं ज्यादा से ज्यादा लोगो को बता सकूं शायद यही मेरी तरफ से समाज को सेवा होगी .आप भी अपने अनुभव लिख सकते हैं एवं शेयर करके लोगों की सेवा कर सकते हैं .

baba kamalnath ashram

पता : बाबा कमलनाथ आश्रम(baba kamalnath ashram Alwar) ,गहनकर ,अलवर तिजारा रोड ,भिन्दूशी बस स्टॉप .अलवर

अलवर रेलवे स्टेशन से दिल्ली जाने वाली बस तिजारा होकर जाती हैं जो आपको भिन्दूशी पहुंचा देंगी ,वहां से ३ किमी है जिसकी लिए वहां से सवारी मिल जाती है .

 

आपके द्वारा शेयर करने से किसी की जान बच सकती है कृपया ज्यादा से ज्यादा शेयर करके लोगों तक पहुंचाए …..

 

8 comments

  1. but ab yaha pr dwai nahi mil rhi hai. hm kai bar pta kr chuke hai, pr sahi wjh ka pta nahi chl rha hai. bs yhi sochna milti hai ki ab dwai nahi mil skegi. Kya yah sch bat hai , koi mujhe ye btaye ki ab hm dwai kaise le, ya kahi or aisi dwa milti ho . please btaye.meri mail id parveenkarsoliya@gmail.com

  2. praveenji aap kis city se hain ? main bhi wahan dava lene gaya that lekin pata laga an dava nahi milrahi .koi santoshjanak uttar bhi nhi mila .aapko yadi pata chale to yahan jaroor comment kejiyega …..anurodh hai kis kisi ko phi pasta chale jarur share karein

  3. Meri aaj (17/03/2018) baba k ashram me kisi se baat hui he or mujhe bhi yahi jawab mila ki dawa nahi mil paegi qki pehle dawa nepal se RSS (Rashtriya Swayamsevak Sangh) wale bhejte the par China k kisi interfere ki wajah se dawa nahi aa pa rahi or dusri wajah baba ki age jyada ho gai he or wo dawa banane me capable nahi he. Or kisi ko bhi iske alawa koi information ho ki dawa aagey mil sakti he ya nahi to please share kare.
    Gmail ID- kalpit1410@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.