Free Cancer treatment places in India

Free Cancer treatment places in India फ्री कैंसर का इलाज

आज के युग में भी कैंसर के इलाज़ में कुछ महत्वपूर्ण स्थान हैं हिन्दुस्तान में(Free Cancer treatment places in India) जो सिर्फ और सिर्फ सेवा भाव से निःशुल्क दवा कई सालों से दे रहे हैं .लाखों लोग लाभान्वित हुए हैं और हो भी रहे हैं .आप इतना जान लीजिये आज के युग में यह बीमारी किसी अन्य बीमारी की अपेक्षा सबसे तेजी से बढ़ रही है. जिस भी व्यक्ति को यह बीमारी लग जाती है वह एवं उसका पूरा परिवार बस इस बीमारी से लड़ने में लगा रहता है .

आम व्यक्ति की भाषा में समझने की कोशिश करते हैं कि आखिर कैंसर है क्या ? ईश्वर के द्वारा बनाया गया हमारा शरीर एक बहुत ही अद्भुत एवं अविश्वश्नीय संरचना है .आज भी जब यह विज्ञान इतना विकसित हो गया एक मानव शरीर की संरचना नहीं कर पाया .इस शरीर को आज भी ईश्वर ही बनाता है .अगर मानव शरीर को समझा जाय तो इसी शरीर में इसका चिकित्सक भी मौजूद है .

व्यक्ति के शरीर को चलने के लिए ताकत (ऊर्जा )की आवश्यकता होती है और इस उर्जा की पूर्ति होती है  हमारी भोजन से इसका मतलब हम जो भोजन करते हैं उसे हमारा शरीर पचाता है एवं वह भोजन पच कर शरीर के विभिन्न हिस्सों में तत्वों के रूप में पहुंचता है हमारे अलग-अलग अंगों को अलग अलग कार्य करने के लिए अलग अलग एवं बहुत से तत्वों की आवश्यकता होती है जैसे एक उदाहरण लेते हैं हमारे थायराइड सिस्टम को टीएसएच की आवश्यकता होती है इसको भी हमारा शरीर ही बनाता है शरीर को चलने के लिए ऊर्जा ग्लूकोज के रूप में मिलती है और यह ग्लूकोज भोजन से प्राप्त होता है यह शरीर के उत्तकों में पहुंचता है एवं ऊर्जा के रूप में परिवर्तित होता है जिस से हमारे शरीर को ताकत मिलती है अगर किसी वजह से यह ऊर्जा मिलनी बंद हो जाती है इसका मतलब ग्लूकोज उत्तकों में जमा होना शुरू हो जाता है एवं यह रक्त में ग्लूकोज की मात्रा बढ़ना शुरू हो जाता है इसी को हम डायबिटीज का नाम दे देते हैं ठीक इसी तरह हमारे खान-पान की कमी की वजह से,हम मिलावटी खानों की वजह से ,वातावरण में ऑक्सीजन की कमी की वजह से और और बहुत से कारणों की वजह से शरीर को उतना पौष्टिक भोजन नहीं दे पाते जिससे वह उन तत्वों का निर्माण कर सके जो हमारे शरीर के लिए आवश्यक हैं जैसे जैसे जिन जिन तत्व की आवश्यकता अनुसार निर्माण नहीं कर पाते हैं तो उस से संबंधित बीमारियां शरीर को लग जाती हैं इसलिए हमें यह समझना होगा किस कमी की वजह से कौन सी बीमारी हमारे शरीर में प्रवेश कर सकती है और उसके कारणों को समझते हुए हम उसे आसानी से दूर कर सकते हैं. जैसे एक उदाहरण लेते हैं इन्सुलिन की कमी के वजह से शरीर में मौजूद ग्लूकोस का उपयोग शरीर नहीं कर पाता जिसकी वजह से शरीर में ग्लूकोस जमा होता चला जाता है एवं ब्लड में शुगर की मात्र बढ़ती जाती है जिससे डायबिटीज हो जाती हैं .इसी वजह से डायबिटीज के मरीजों को बाहर से इंसुलीन लेनी पड़ती है .

ऐसा ही कुछ होता है कैंसर में भी .कैंसर से लड़ने से पहले हमें अपने शरीर को समझना होगा .हमारे शरीर में अच्छे एवं ख़राब दोनों तरह के तत्त्व होते हैं .समझते हैं खराब क्या है खराब वो तत्त्व जो किसी भी कारण से हमारे शरीर में पहुँचते रहते हैं .जैसे हम कुछ ऐसा खाते हैं जिससे ख़राब तत्त्व ज्यादा पैदा होते हैं तो वह शरीर में इकट्ठे होते हैं .हमें पता है की हमारा शरीर ही हमारा डाक्टर भी होता है अतः वह इन ख़राब तत्वों को किसी भी रूप में हमारे शरीर से बाहर निकलता रहता है एवं हमारे शरीर में अच्छे तत्वों की संख्या ज्यादा बनी रहती है ,जिससे हम एक स्वस्थ्य जिन्दगी जीते रहते हैं .अब अगर किसी वजह से शरीर में अच्छे तत्वों की संख्या से ज्यादा ख़राब तत्त्व जमा हो जाते हैं जिससे शरीर के प्रक्रिया बिगड़ जाती है एवं शरीर रोग ग्रस्त हो जायेगा .

अब अगर शरीर में ख़राब तत्त्व जमा हो जायें जिनमें कैंसर के गुण हो तो उनसे लड़ना बहुत कठिन हो जाता है ,ऐसी परिस्थिति में अच्छे तत्वों को इतना मजबूत strong बनाना पड़ेगा की वो उन कैंसर के तत्वों से लड़ सकें एवं उनको बाहर निकाल सकें .यहाँ यह जान लीजिये की कैन्सर के तत्त्व के बढ़ने की प्रक्रिया अच्छे तत्वों के बढ़ने की तुलना में तीन गुना ज्यादा होती है .इसीलिये कैंसर का इलाज जितनी जल्दी शुरू कर दिया जाये उतना अच्छा होता है .

क्या होता है कैंसर के इलाज में :

जैसा की हमनें जाना है की कैंसर के सेल शरीर में तेजी से बढ़ते हैं उनको कैसे रोका जाये .एलोपथिक चिकित्सा में शल्य चिकित्सा करके उनको निकल देते हैं उसके बाद कीमो थेरेपी करके बचे हुए ख़राब सेल को मारते हैं इसके बाद रेडियो थेरेपी करके उन सेल को जलाया जाता है लेकिन इनमें शरीर में मौजूद अच्छे सेल भी बहुत मारे जाते हैं जिससे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बहुत कम हो जाती है .इसके परिणाम स्वरुप मरीज बहुत कमजोर हो जाता है .बहुत सारे साइड इफ़ेक्ट भी होते हैं .

इसके ठीक विपरीत ऐसे बहुत से उदाहरण मौजूद हैं जिनमें बहुत से लोगों ने मात्र अपनी आन्तरिक शक्ती एवं खानपान में परिवर्तन करके ही कैंसर को पूर्ण रूप से ठीक कर लिया. एक महिला ने तो सिर्फ गाजर के जूस को पीकर ६ महीने में अपने लास्ट स्टेज कैंसर को ठीक कर लिया .यूरोप में बहुत से लोग अपने डाईट चार्ट में परिवर्तन करके कैंसर से ठीक हुए हैं .बहुत से लोग अपने शरीर को पूर्ण रूप से एल्कलाइन माध्यम में करके कैंसर से जीत चुके हैं ,क्यूँकी कैंसर एसिडइक माध्यम में ही होता है .समझना होगा की किसी भी तरीके से ख़राब तत्त्व शरीर से बाहर हो सके और अच्छे तत्त्व बढ़ जाये .अगर हम शरीर के अच्छे तत्वों को इतना शक्तिशाली बना दे कि वो ख़राब तत्वों को खुद ही मार दें तो कैंसर से मुक्ती मिल सकती है .

आयुर्वेद से कैंसर का इलाज :

हम सबको पता है कि अब आधुनिक चिकित्सा भी आयुर्वेद के ताकत को मानने लगे हैं .इसका जीता जागता उदाहरण हल्दी है हल्दी में करक्यूमिन पाया जाता है जो एक एंटीऑक्सीडेंट है और कैंसर में बहुत ही लाभदायक होता है .आज आधुनिक चिकित्सक भी शल्य चिकित्सा के बाद मरीजों को हल्दी के कैप्सूल ही लिखते हैं .आसान भाषा में समझे तो कैंसर में जितना एंटीऑक्सीडेंट लेंगे उतना फायदा होगा .हमारी आयुर्वेदिक विज्ञान में अद्भुद ताकत है अगर उन जड़ी बूटियों को कोई अच्छी तरह से दे सके तो किसी भी रोग का इलाज संभव है .

यहाँ मैं कुछ ऐसे स्थान बता रहा हूँ जहाँ बिलकुल निःशुल्क कैंसर की आयुर्वेदिक दावा दी जाती है एवं जहाँ से हजारों मरीज पूर्ण रूप से ठीक भी हुए हैं लेकिन इसके बाद भी आपसे कहूँगा की यह आपका अपना निर्णय है एवं यह निर्णय बहुत सोच समझ के लेना चाहिए .अगेर आपको किसी ऐसे स्थान के बारे में पता है जहाँ बिना किसी लालच के ऐसा इलाज किया जाता है तो जरूर कमेंट करे जिससे बहुत से लोगों को फायदा हो एवं इनके बारे में ज्यादा से ज्यादा शेयर करें .

बाबा कमलनाथ आश्रम अलवर में कैंसर का फ्री इलाज :

 

यह स्थान अलवर जिला राजस्थान में है इसका पूरा डिटेल लिंक में मिल जायेगा .यहाँ कैंसर के मरीजों को निःशुल्क दवा डी जाती है किसी भी तरीके का दान स्वीकार्य नहीं है .पूर्ण रूप से सामाजिक सेवाभाव है यहाँ पर . यहाँ देश के कोने कोने से लोग आते हैं एवं हर जगह से जवाब मिल चुके मरीज भी स्वस्थ्य होते हुए देखे गए हैं .बहुत ही अद्भुद जगह है यह .अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें ……..

पता : बाबा कमलनाथ आश्रम(baba kamalnath ashram Alwar) ,गहनकर ,अलवर तिजारा रोड ,भिन्दूशी बस स्टॉप .अलवर

अलवर रेलवे स्टेशन से दिल्ली जाने वाली बस तिजारा होकर जाती हैं जो आपको भिन्दूशी पहुंचा देंगी ,वहां से ३ किमी है जिसकी लिए वहां से सवारी मिल जाती है .

Free Cancer treatment places in India

बाबूलाल वैध्य कान्हावाडी जिला बेतुल 

मध्य प्रदेश में एक जिला है बैतूल ,वहां से ३५ किमी दूर है घोड़ाडोंगरी ब्लाक यहाँ से ३ किमी दूर है गाँव कान्हावाडी.यह गाँव प्रसिद्ध है वैद्य बाबूलाल भगत के नाम से . अब इस गाँव को लोग कैंसर की दवा वाला गाँव के नाम से जानने लगे हैं .यहाँ पर सतपुड़ा के घने जंगले पाए जाते हैं .लोगों का कहना है की इन जंगलों में ऐसी जडी बूटियाँ पाई जाती हैं जो कैंसर एवं बहुत से असाध्य बीमारियों से मुक्ति  दिलाती हैं . अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें 

पता :

VILLAGE NAME : Kanhayavadi
DISTRICT : Betul
STATE : Madhya Pradesh
TEHSIL : Ghoradongri